जिले में साइबर क्राइम का नया मामला, पुलिस के हत्थे चढ़ा एक अपराधी..

Bokaro, Crime, News

जिले में साइबर अपराध का नया मामला सामने आया है| ये मामला है एटीएम कार्ड क्लोनिंग का जिसमें एटीएम कार्ड रीडर मशीन के जरिए लोगों के एटीएम का डाटा चुराकर उनके खाते से राशि चुराया जा रहा था| इस संदर्भ में आज पुलिस ने चंदनकियारी से एक अपराधी को गिरफ्तार किया है| इस तरह पुलिस एटीएम क्लोनिंग करने वाले पूरे गिरोह का भंडाफोड़ कर लिया है|

ये कामयाबी लोगों की समझदारी और सतर्कता से संभव हो पाई| दरअसल इलेक्ट्रोस्टीलकर्मी प्रकाश कुमार गोप प्राइवेट, इंडियन एटीएम के मशीन से पैसे निकालने गए| वहां मौजूद चंदन नाम का एक व्यक्ति प्रकाश का कार्ड जबरन उनसे छीनकर एक दूसरी मशीन में स्वाइप करने की कोशिश करने लगा| परंतु प्रकाश ने सूझबूझ का परिचय देते हुए तुरंत हो-हल्ला किया| इतने में स्थानीय लोगों ने उसे पकड़कर पुलिस का इसकी सूचना दे दी जिसके बाद वहां मौके पर पहुंच कर पुलिस ने चंदन को अपने गिरफ्त में ले लिया|

गिरफ्तार किए गए अपराधी चंदन के पास से एटीएम कार्ड रीडर मशीन (मिनी डीएक्स3), एक मोबाइल और एक एटीएम कार्ड बरामद किया गया है। पूछताछ के दौरान उसने बताया कि वो नवादा का मूल निवासी है तथा बलियापुर धनबाद में आईटीआई का छात्र है। देखा जाए तो इस तरह के धंधे में पढ़े-लिखे छात्र ही कम समय में ज्यादा पैसा कमाने के लालच मैं पड़कर इस तरह अपराध की राह पर निकल पड़ते हैं।

चंदन ने पूछताछ में खुलासा किया कि नवादा का गिरोह बोकारो में एटीएम क्लोनिंग का यह धंधा चलाता है| उसका एक अन्य साथी जो इस अपराध में शामिल है वो भी नवादा का ही रहने वाला है। चंदन के मुताबिक एटीएम से डाटा चोरी कर लाने के एवज में उसे 10 हजार रुपये प्रतिमाह की तनख्वाह मिला करती थी। है।

इस मामले पर ज्यादा जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक कार्तिक एस. ने बताया कि इस गिरोह के लोग वैसे लोगों को अपना शिकार बनाते हैं जिन्हें एटीएम से पैसे निकालने में दिक्कत होती है| उनकी मदद करने के बहाने इस गिरोह के लोग उनका एटीएम किसी तरह अपने हाथ में लेकर पलक झपकते ही अपने एटीएम कार्ड रीडर मशीन में स्वाइप कर उसकी क्लोनिंग के लिए डाटा चुरा लेते है। इसके बाद किसी तरह झांककर उसका पिन नंबर भी देख लेते है और हाथ की सफाई से उसका एटीएम कार्ड अपने मशीन में स्वाइप कर वापस कर देता है। इस मशीन को उसके गिरोह के अन्य सदस्यों द्वारा कंप्यूटर में जोड़कर इसके जरिये एटीएम की क्लोनिंग कर दूसरे एटीएम बना लिया जाता है। यह काम वैसी जगह किया जाता है जहां एटीएम सेन्टर में सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे होते हैं या सिक्योरिटी गार्ड नहीं होते और वहीं से खाताधारक का पैसा निकाल लिया जाता है।

पुलिस अधीक्षक कार्तिक एस ने बताया कि बोकारो के साइबर थाने में एटीएम क्लोनिंग का यह पहला मामला है। पुलिस इस गिरोह में संलिप्त अन्य सभी अपराधियों की गिरफ्तारी का प्रयास कर रही है तथा जल्द ही पूरे गैंग का भंडाफोड़ कर लिया जाएगा।

One thought on “जिले में साइबर क्राइम का नया मामला, पुलिस के हत्थे चढ़ा एक अपराधी..

  • Ha Nawada Nalanda Mokama me iska training chalta h Suna h. Police Ko iske through Nawada Mokama police se contact krke pure giroh Ko pkdna chahiye. Waise police station me in ab mamlo ka dairy tak no likha jata . FIR to dur ki bat h

Leave a Reply