7 बजते ही शुरू हो गया मतदान, पोलिंग बूथ पर लगीं लंबी कतार..

Bokaro, News, Politics

लोकसभा चुनाव के छठे चरण का मतदान शुरू हो चुका है। छठे चरण में छह राज्यों और दिल्ली की 59 लोकसभा सीटों पर मतदान हो रहे हैं। इसके साथ ही झारखंड में तीसरे चरण में चार लोकसभा सीटों के लिए मतदान शुरू हो गया है। गिरिडीह से राज्य के जल संसाधन मंत्री और एनडीए के चंद्रप्रकाश चौधरी, सिंहभूम सीट से पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़़ा की पत्नी गीता कोड़़ा और भाजपा के तीन निवर्तमान सांसदों प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा, जमशेदपुर से विद्युत बरण महतो और धनबाद से पीएन सिंह फिर से अपनी किस्मत आजमा रहे हैं।

सुबह सात बजे से मतदान शुरू हुआ, जो शाम चार बजे तक चलेगा। शांतिपूर्ण, निष्पक्ष और पारदर्शी चुनाव के लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने 40 हजार सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की है। इन चार सीटों के लिए 8,300 मतदान केंद्र पर 66,85,401 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे. 8,300 में से 2,582 मतदान केंद्र शहर और 5,718 मतदान केंद्र ग्रामीण इलाके में हैं।

बात करें झारखण्ड की धनबाद संसदीय सीट की तो छठे चरण के तहत यहाँ मतदान कराए जा रहे हैं। पोलिंग बूथ पर लोग कतारों में खड़े दिख रहे हैं जिन्हें वोट देने के लिए अपनी बारी का इंतजार है। इस लोकसभा चुनाव में यहां से 20 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं।

इनमें इंडियन नेशनल कांग्रेस के श्री कीर्ति आजाद, भारतीय जनता पार्टी के श्री पशुपतिनाथ सिंह, ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस की श्रीमती माधवी सिंह, बहुजन समाज पार्टी के श्री मेघनाथ रवानी, रजिस्ट्रीकृत राजनीतिक दल के श्री दीपक कुमार दास, पीपल्स पार्टी ऑफ इंडिया (डेमोक्रेटिक), श्री मंतोष कुमार मंडल, आमरा बंगाली, श्री मिहिर चंद्र महतो, अंबेडकराइट पार्टी ऑफ इंडिया, श्री मेराज खान, समाजवादी पार्टी, श्री राम लाल महतो सोशलिस्ट यूनिट सेंटर ऑफ इंडिया (कम्युनिस्ट), श्री सुधीर कुमार महतो बहुजन मुक्ति पार्टी, श्री हीरालाल शंखवार, ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक तथा निर्दलीय उम्मीदवार श्री उमेश पासवान, श्री प्रेम प्रकाश पासवान, श्री बामा पद बावरी, श्री राजेश कुमार सिंह, श्रीमती लक्ष्मी देवी, श्री वरुण कुमार, श्री संजय पासवान, श्री केसी सिंह राज एवं श्री सिद्धार्थ गौतम उम्मीदवार हैं।

धनबाद लोकसभा सीट के इतिहास को देखे तो यहां हुए पहले व दूसरे चुनाव में कांग्रेस का बोलबाला रहा था| कांग्रेस के पीसी बोस ने उस दौरान ये सीट जीता था| 1962 के चुनाव में भी कांग्रेस के पीआर चक्रवर्ती जीते| 1967 के चुनाव में जाकर पहली बार तख्ता पलट हुआ औऱ निर्दलीय प्रत्याशी ललिता राज्य लक्ष्मी यहां से सांसद बनीं| 1971 में कांग्रेस की वापसी हुई और राम नारायण शर्मा चुनाव जीत गये| फिर 1977 औऱ 1980 में हुए चुनावों में कम्युनिस्टों ने कब्जा जमाया और ए.के रॉय की जीत हुई| 1984 में कांग्रेस वापस आई लेकिन राजनैतिक हिचकौले में 1989 में वापस कम्युनीस्ट नेता ए.के रॉय जीत गए| इतने सालों में भाजपा दूर-दूर तक कहीं नहीं थी| फिर 1991 में भाजपा का खाता खुला औऱ रीता वर्मा ने लगातार चार बार- 1991, 1996, 1998 और 1999 धनबाद लोकसभा सीट पर जीत हासिल की| फिर 2004 में कांग्रेस के चंद्रशेखर दूबे उर्फ ददई दूबे सांसद बने लेकिन 2009 में एक बार फिर धनबाद की सीट भाजपा के पाले में चली गई| साल 2009, 2014 में भाजपा के पीएन सिंह ने जीत हासिल की|

Leave a Reply